पश्चिम बंगाल के गृह सचिव हटाए गए, एक दिन पहले खत्म होगा प्रचार


Asian Reporter Mail

लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण के लिए जहां एक तरफ देशभर में सभी दलों की तरफ से पूरी ताकत झोंक दी गई है तो वहीं दूसरी पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार समय से एक दिन पहले ही रोक लग जाएगी।
चुनाव आयोग के आदेश के मुताबिक, पश्चिम बंगाल में 19 मई को होनेवाले मतदान के लिए गुरूवार की रात 10 बजे चुनाव प्रचार को रोक लग जाएगा। चुनाव आयोग ने कहा- “पश्चिम बंगाल की 9 संसदीय सीट- जयनगर, दमदम, बारासात, बशीरहाट, डायमंड हार्बर, मथुरापुर, कोलकाता दक्षिण, कोलकाता उत्तर, जाधवपुर में गुरुरवार रात बजे के बाद चुनाव प्रचार पर रोक रहेगी।”
इसके साथ ही, चुनाव आयोग ने कहा कि एडीजी सीआईडी राजीव कुमार का कार्यमुक्त कर गृह मंत्रालय भेजा जा रहा है। उन्हें कल सुबह 10 बजे तक गृह मंत्रालय को रिपोर्ट करना चाहिए। इसके साथ ही, पश्चिम बंगाल के प्रधान सचिव, गृह और स्वास्थ्य मामलों के सचिव का भी चुनाव के दौरान पश्चिम बंगाल चुनाव आयोग को निर्देश देने को लेकर वर्तमान ड्यूटू से हटाया जा रहा है। अब गृह सचिव के काम की देखरेख फिलहाल मुख्य सचिव करेंगे।
चुनाव आयोग ने कहा- “संभवत: ऐसा पहली बार है जब भारतीय चुनाव आयोग ने इस तरीके से आर्टिकल 324 को निरस्त किया है। लेकिन हिंसा और बिगड़ती कानून व्यवस्था जो शांतिपूर्ण मतदान की दिशा में बाधा बने उस सूरत में यह आखिरी नहीं हो सकता है।”
चुनाव आयोग ने कहा कि वह मंगलवार की शाम को विद्यासागर की प्रतिमा को तोड़फोड़ किए जाने से काफी नाराज है। उन्होंने कहा कि ऐसी उम्मीद की जा रही है कि राज्य प्रशासन की तरफ से उन हुड़दंगियों की पहचान की जाएगी।
गौरतलब है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में मंगलवार को कोलकाता में भडकी हिंसा और आगजनी के बाद ईश्वरचंद्र विद्यासगर की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाया गया। बीजेपी ने इस घटना के लिए टीएमसी को कसूरवार ठहराया।
लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में आठ राज्यों की 59 सीटों पर वोटिंग होगी। पश्चिम बंगाल में लगातार मतदान के दौरान भारी हिंसा की खबर सामने आई  है।

लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में आठ राज्यों की 59 सीटों पर वोटिंग होगी। पश्चिम बंगाल में लगातार मतदान के दौरान भारी हिंसा की खबर सामने आई है।

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

ट्रेंडिंग/Trending videos

you will not hear this kind of reasoning on TV channels including those who claim to be the torch bearer of independent media

गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को लोकसभा में विपक्ष के विरोध के बीच चर्चा के लिए नागरिकता संशोधन बिल पेश किया। शाह ने स्पष्ट किया कि यह बिल अधिकारों को छीनने वाला नहीं, बल्कि अधिकार देने वाला बिल है।लेकिन प्रो फैजान मुस्तफा समझा रहे हैं की इसकी बुनयाद ही ग़लत है

मुद्दा गर्म है

नज़रिया

एशिया