13 जून 1997 को जब आग ने पूरे सिनेमा हॉल को अपनी चपेट में ले लिया था आज फिर याद आया


Editor :tasneem kausar

दिल्ली में अनाज मंडी के रिहायशी इलाके में चल रही फैक्ट्री में सोमवार सुबह फिर आग भड़क गई, हालांकि इसे जल्दी ही काबू कर लिया गया। इससे पहले 2 लोगों को अस्पताल ले जाया गया। इस फैक्ट्री में रविवार तड़के 5:22 बजे आग लगी थी। इससे इमारत के अंदर सो रहे 59 में से 43 लोगों की मौत हो गई थी। 16 जख्मी हुए। 28 मृतकों की शिनाख्त कर ली गई। इनमें से 25 बिहार के हैं। यह आग शॉर्ट सर्किट की वजह से लगी थी।

प्राथमिक जांच में सामने आया है कि फैक्ट्री मालिक के पास फायर डिपार्टमेंट की एनओसी नहीं थी। हादसे की जांच क्राइम ब्रांच को सौंपी गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हादसे को भयावह बताया है।

फैक्ट्री मालिक के खिलाफ गैर-इरादतन हत्या का मामला दर्ज

दिल्ली पुलिस ने फैक्ट्री मालिक रेहान और मैनेजर फुरकान को गिरफ्तार कर लिया है। इनके खिलाफ गैर-इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया है। ऐसे मामले में दोषी पाए जाने पर 10 साल जेल की सजा हो सकती है। 

जयप्रकाश नारायण अस्पताल में मौजूद मुरादाबाद के नफ़ीस  (58) ने कहा, "मैं हादसों में अपने दो बेटे पहले ही खो चुका हूं। मेरा सबसे बड़ा बेटा इमरान (35) इसी फैक्ट्री में काम करता था। उसने मुझे हादसे के वक्त फोन किया। उसने कहा कि अब्बू यहां बहुत बड़ी आग लग गई है। मैं जिंदा बचकर बाहर नहीं आ पाऊंगा। अब्बू मुझे बचा लो। इसके बाद उसका फोन कट गया। मैं फोन लगाता रहा, पर उसने नहीं उठाया। इसी हादसे में मेरा बेटा इकराम (32) भी मारा गया। अफसोस है कि उससे बात नहीं कर पाया।'

दक्षिण दिल्ली के ग्रीन पार्क स्थित उपहार सिनेमा में लगी आग में 100 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे। 13 जून 1997 को जिस समय यह घटना हुई, थिएटर में बॉर्डर फिल्म चल रही थी। इसी दिन सुबह 6.55 बजे थिएटर परिसर में लगे दो ट्रांसफॉर्मरों को बिजली बोर्ड ने ठीक किया था। माना जाता है कि मरम्मत ठीक से नहीं हुई और शाम 4.55 बजे इन ट्रांसफॉर्मर में आग लग गई। इस आग ने पूरे सिनेमा हॉल को अपनी चपेट में ले लिया था।

" इन हालात के लिए अधिकारी जिम्मेदार हैं। ऐसी करीब एक हजार फैक्ट्रियां और 40 हजार दुकानें हैं। ज्यादातर फैक्ट्रियां अवैध हैं। इस इलाके में संकरी गलियां हैं, जिनमें बिजली के तारों का जाल फैला है। इनके चलते यह इलाका जिंदा टाइम बम जैसा हो गया है।"स्थानिये निवासी

You May Also Like

Notify me when new comments are added.

ट्रेंडिंग/Trending videos

you will not hear this kind of reasoning on TV channels including those who claim to be the torch bearer of independent media

गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को लोकसभा में विपक्ष के विरोध के बीच चर्चा के लिए नागरिकता संशोधन बिल पेश किया। शाह ने स्पष्ट किया कि यह बिल अधिकारों को छीनने वाला नहीं, बल्कि अधिकार देने वाला बिल है।लेकिन प्रो फैजान मुस्तफा समझा रहे हैं की इसकी बुनयाद ही ग़लत है

मुद्दा गर्म है

नज़रिया

एशिया